आज के इस दौर में लड़कियों में बढ़ती पीसीओएस(PCOS) की समस्या…..!

आजकल लड़कियों में बड़ी ही छोटी उम्र से पीसीओएस यानी की पोलिसिस्‍टिक ओवरी सिंड्रोम की समस्‍या देखने को मिल रही है। चिंता की बात यह है कि कई सालों पहले यह बीमारी केवल 30 के ऊपर की महिलाओं में ही आम होती थी, लेकिन आज इसका उल्‍टा ही देखने को मिल रहा है। डॉक्‍टरों के अनुसार यह गड़बडी पिछले 10-15 सालों में दोगुनी हो गई है

29-pcos

क्‍या है पीसीओएस…….?

पीसीओएस तब होता है जब सेक्स हार्मोन में असंतुलन पैदा हो जाती है। हार्मोन में ज़रा सा भी बदलाव मासिक धर्म चक्र पर तुरंत असर डालता है। इस कंडीशन की वजह से ओवरी में छोटा अल्‍सर(सिस्‍ट) बन जाता है। अगर यह समस्या लगातार बनी रहती है तो न केवल ओवरी और प्रजनन क्षमता पर असर पड़ता है बल्कि यह आगे चल कर कैंसर का रुप भी ले लेती है। दरअसल महिलाओं और पुरुषों दोनों के शरीरों में ही प्रजनन संबंधी हार्मोन बनते हैं। एंड्रोजेंस हार्मोन पुरुषों के शरीर में भी बनते हैं, लेकिन पीसीओएस की समस्या से ग्रस्त महिलाओं के अंडाशय में हार्मोन सामान्य मात्रा से अधिक बनते हैं। यह स्थिति सचमुच में घातक साबित होती है। ये सिस्ट छोटी-छोटी थैलीनुमा रचनाएं होते हैं, जिनमें तरल पदार्थ भरा होता है। अंडाशय में ये सिस्ट एकत्र होते रहते हैं और इनका आकार भी धीरे-धीरे बढ़ता चला जाता है।

 

यह स्थिति पॉलिसिस्टिक ओवेरियन सिन्ड्रोम कहलाती है। और यही समस्या ऐसी बन जाती है, जिसकी वजह से महिलाएं गर्भ धारण नहीं कर पाती हैं। ये हैं लक्षण – चेहरे पर बाल उग आना, मुंहासे होना, पिगमेंटेशन, अनियमित रूप से माहवारी आना, यौन इच्छा में अचानक कमी आ जाना, गर्भधारण में मुश्किल होना, आदि कुछ ऐसे लक्षण हैं, जिन की ओर महिलाएं ध्यान नहीं देती हैं।

क्‍यों होता है छोटी उम्र में पीसीओएस…..?

खराब डाइट:-
=======

जंक फूड, जैसे पीजा और बर्गर शरीर को नुकसान पहुंचाते हैं। अत्यधिक तैलीय, मीठा व वसा युक्त भोजन न खाएं। मीठा भी सेहत के लिये खराब माना जाता है। इस बीमारी के पीछे डयबिटीज भी एक कारण हो सकता है। अपने खाने पीने में हरी-पत्‍तेदार सब्‍जियों को शामिल करें और जितना हो सके उतना फल खाएं।

मोटापा:-
<<<>>>

*  मोटापा हर मर्ज में परेशानी का कारण बनता है। ज्यादा वसा युक्त भोजन, व्यायाम की कमी और जंक फूड का सेवन तेजी से वजन बढ़ाता है। अत्यधिक चर्बी से एस्ट्रोजन हार्मोन की मात्रा में बढ़ोतरी होती है, जो ओवरी में सिस्ट बनाने के लिए जिम्मेदार माना जाता है। इसलिए वजन घटाने से इस बीमारी को बहुत हद तक काबू में किया जा सकता है। जो महिलाएं बीमारी होने के बावजूद अपना वजन घटा लेती हैं, उनकी ओवरीज में वापस अंडे बनना शुरू हो जाते हैं।

लाइफस्‍टाइल:-
<<<<<>>>>>

* इन दिनों ज्‍यादा काम के चक्‍कर में तनाव और चिंता अधिक रहती है। इस चक्‍कर में लड़कियां अपने खाने-पीने का बिल्‍कुल भी ध्‍यान नहीं देती। साथ ही लेट नाइट पार्टी में ड्रिंक और स्‍मोकिंग उनकी लाइफस्‍टाइल बन जाती है, जो बाद में बड़ा ही नुक्‍सान पहुंचाती है।

* इसलिये अपनी दिनचर्या को सही कीजिये और स्‍वस्‍थ्‍य रहिये। पीसीओएस को सही किया जा सकता है। अगर हार्मोन को संतुलित कर लिया जाए तो यह अपने आप ही ठीक हो जाएगा। आजकल की लड़कियों को खेल में भाग लेना चाहिये और खूब सारा व्‍यायाम करना चाहिये। इसके अलावा अपने खाने-पीने का भी अच्‍छे से ख्‍याल रखना चाहिय तभी यह ठीक हो सकेगा।

* पॉलीसिस्टिक अंडाशय सिंड्रोम एक औरत महिला सेक्स हार्मोन का असंतुलन है, जिसमें एक शर्त है। परिवर्तन यह कठिन एक महिला के अंडाशय पूर्ण विकसित (परिपक्व) अंडे को रिहा करने के लिए करते हैं। आम तौर पर, एक या एक से अधिक अंडे एक महिला की अवधि के दौरान जारी किए हैं। इस ovulation के कहा जाता है। #पीसीओ में, परिपक्व अंडे अंडाशय से रिहा नहीं कर रहे हैं। इसके बजाय, वे अंडाशय में बहुत छोटे अल्सर फार्म कर सकते हैं।
लक्षण:-
———

* मासिक धर्म संबंधी विकार:-

* पीसीओ ज्यादातर oligomenorrhea (कुछ मासिक धर्म) या ऋतुरोध (कोई मासिक धर्म) पैदा करता है, लेकिन मासिक धर्म संबंधी विकार के अन्य प्रकार के भी हो सकती है।

* यह आम तौर पर पुरानी डिंबक्षरण (ovulation के अभाव) से सीधे यह परिणाम है।
सबसे सामान्य लक्षण मुँहासे और अतिरोमता (बाल विकास के पुरुष पैटर्न) कर रहे हैं, लेकिन यह अक्सर माहवारी का उत्पादन हो सकता है

* यह केंद्रीय मोटापा और इंसुलिन प्रतिरोध के साथ जुड़े अन्य लक्षणों की दिशा में एक प्रवृत्ति के रूप में प्रकट होता है। सीरम इंसुलिन, इंसुलिन प्रतिरोध और homocysteine स्तर पीसीओ के साथ महिलाओं में अधिक होती हैं।

वजन
अनियमित मासिक धर्म चक्र
बाल गिरने, मुँहासे
चेहरे बाल विकास और कई और अधिक लक्षण

पीसीओ के लिए आयुर्वेदिक उपचार:-
—————————————

पाँच आम आयुर्वेदिक दवाओं के द्वारा करे उपचार :-
——————————————————-

सतावर(Shatavari):-
————————

* Shatavari डिम्बग्रंथि के रोम के सामान्य विकास को बढ़ावा देने में, मासिक धर्म चक्र को नियंत्रित करता है और महिला प्रजनन प्रणाली revitalizes मदद करता है। Shatavari भी मुख्य रूप से की वजह से अपनी phytoestrogen (प्राकृतिक संयंत्र आधारित एस्ट्रोजन) के लिए, इंसुलिन की hyperinsulinemia- यानी उच्च स्तर का मुकाबला करने में मदद करता है

*  गिलोय(Guduchi):-
———————–

* Guduchi एक शक्तिशाली विरोधी भड़काऊ जड़ी बूटी है। ऊतकों में जीर्ण सूजन इंसुलिन असंतुलन और डिम्बग्रंथि अल्सर के लिए मूल कारण है। Guduchi सब शरीर के ऊतकों को पुन: जीवित करने में मदद करता है और स्वाभाविक रूप से चयापचय को बढ़ा देता है। यह भी इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में मदद करता है।

Shatapushpa (Foeniculum vulgare):-
——————————————–

* इसे भी संस्कृत में shatapushpa रूप में जाना जाता सौंफ़ बीज पीसीओ के लिए एक अच्छा पूरक हैं। वे phytoestrogens के समृद्ध स्रोत हैं। सौंफ में phytoestrogens, इंसुलिन प्रतिरोध को कम करने में और पीसीओ में सूजन नीचे लाने में मदद करता है। Phytoestrogens भी पीसीओ में चयापचय गड़बड़ी की ओर जाता है जो सेलुलर असंतुलन कम करने में मदद करने के लिए विश्वास कर रहे हैं

त्रिफला:-
———

* इसमें मिश्रित तीन fruits- Amalaki (Emblica officinalis), Haritaki (हरीतकी) और Bibhitaki (टर्मीनालिया bellerica) के एक मिश्रण; त्रिफला सबसे लोकप्रिय आयुर्वेदिक शास्त्रीय योगों में से एक है! यह विटामिन की एक समृद्ध स्रोत मुक्त कण सफाई से सूजन को कम करने में मदद करता है कि एक शक्तिशाली प्राकृतिक एंटीऑक्सीडेंट सी है। त्रिफला सफाई और अपने सिस्टम detoxifying में मदद करता है और इसलिए सबसे अच्छा किसी भी अन्य आयुर्वेदिक दवाएं लेने से पहले लिया जाता है।

मुसब्बर Vera- कुमारी (मुसब्बर Barbadensis):-
——————————————————-

* घृतकुमारी पीसीओ के उपचार में बेहद फायदेमंद है कि अभी तक एक और आयुर्वेदिक जड़ी बूटी है। यह सामान्य mestruation को बढ़ावा देता है, मासिक धर्म चक्र को नियमित करने में मदद करता है और डिम्बग्रंथि हार्मोनल असंतुलन normalizes।

* पीसीओ के लिए आयुर्वेदिक आहार स्वस्थ Aartava (Dhatu की महिला प्रजनन ऊतक-एक) के विकास पर ध्यान केंद्रित। पीसीओ के साथ रोगियों के लिए एक आहार ताजा भोजन और सब्जी शामिल हैं। इसके अलावा अग्नि (पाचन आग) में सुधार करने के लिए, ऐसे में इस तरह के खजूर, अंजीर और यह भी मसालेदार भोजन, किण्वित खाद्य, मक्खन दूध के सेवन से बचने के लिए सिफारिश की है किशमिश के रूप में आड़ू, नाशपाती, प्लम और साथ ही सूखे फल के रूप में ताजा फल सलाह देते हैं। रागी से तैयार सेवन दलिया निकालने (nachini, रागी)। बजाय सामान्य चीनी का स्वाद के लिए क्रिस्टल चीनी (Khadisakhar, Mishri) पसंद करते हैं। क्रिस्टल चीनी बहुत सुरक्षित है तथापि वजन पहरेदार चीनी के विकल्प पसंद कर सकते हैं।
नोट: -उपरोक्त दवाओं के पर्चे एक प्रशिक्षित आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा प्रशासित किया जाना चाहिए। उपरोक्त सिफारिशें एक आयुर्वेदिक चिकित्सक से उचित परामर्श के बिना नहीं लिया जाना चाहिए।

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s